आत्म-संगीत- प्रेमचंद(Atam-Sangeet Story by Premchand)

आधी रात थी। नदी का किनारा था। आकाश के तारे स्थिर थे और नदी में उनका प्रतिबिम्ब लहरों के साथ चंचल। एक स्वर्गीय संगीत की मनोहर और जीवनदायिनी, प्राण-पोषिणी घ्वनियॉँ इस निस्तब्ध और तमोमय दृश्य पर इस प्रकाश छा रही थी, जैसे हृदय पर आशाऍं छायी रहती हैं, या मुखमंडल पर शोक। रानी मनोरमा ने […]

रबीन्द्रनाथ टैगोर, एक जीवन परिचय(Biography of Rabindranath Tagore in Hindi)

जब कभी भी भारतीय साहित्य के इतिहास की चर्चा होगी तो वह गुरुदेव रबीन्द्रनाथ टैगोर  के नाम के बिना अधूरी ही रहेगी। रबीन्द्रनाथ टैगोर एक विश्वविख्यात कवि, साहित्यकार, दार्शनिक, कहानीकार, गीतकार, संगीतकार, नाटककार, निबंधकार तथा चित्रकार थे। भारतीय साहित्य गुरुदेव रबीन्द्रनाथ टैगोर के योगदान के लिए सदैव उनका ऋणी रहेगा। वे अकेले ऐसे भारतीय साहित्यकार […]

ब्लॉग क्या है (What Is a Blog)

What Is a Blog(ब्लॉग क्या है) हम हमेशा अपने आस पास ,खबरों में या इन्टरनेट पर BLOG (ब्लॉग), Blogger(ब्लॉगर) एवं Blogging(ब्लॉगिंग) शब्द के बारे में सुनते रहते है। पर अपने क्या कभी यह सोचा है यह ब्लॉग आखिर होता क्या है? साधारण तौर पर हम हम यह जानते है कि ब्लॉग एक प्रकार का वेबसाइट […]

अपरिचिता- रवीन्द्रनाथ ठाकुर (Aparichita by Ravindranath Thakur)

अपरिचिता              आज मेरी आयु केवल सत्ताईस साल की है। यह जीवन न दीर्घता के हिसाब से बड़ा है, न गुण के हिसाब से। तो भी इसका एक विशेष मूल्य है। यह उस फूल के समान है जिसके वक्ष पर भ्रमर आ बैठा हो और उसी पदक्षेप के इतिहास ने […]

आहिस्ता चल जिंदगी

आहिस्ता  चल  जिंदगी,अभी कई  कर्ज  चुकाना  बाकी  है कुछ  दर्द  मिटाना   बाकी  है कुछ   फर्ज निभाना  बाकी है                    रफ़्तार  में तेरे  चलने से                    कुछ रूठ गए कुछ छूट गए                    रूठों को मनाना बाकी है                    रोतों को हँसाना बाकी है कुछ रिश्ते बनकर ,टूट गए कुछ जुड़ते -जुड़ते छूट गए उन टूटे […]

आल्हा- प्रेमचंद(Alha Hindi Story By Premchand)

आल्हा- प्रेमचंद(Alha Hindi Story By Premchand) १. आल्हा का नाम किसने नहीं सुना। पुराने जमाने के चन्देल राजपूतों में वीरता और जान पर खेलकर स्वामी की सेवा करने के लिए किसी राजा महाराजा को भी यह अमर कीर्ति नहीं मिली। राजपूतों के नैतिक नियमों में केवल वीरता ही नहीं थी बल्कि अपने स्वामी और अपने […]