काबुलीवाला- रवीन्द्र नाथ टैगोर (Kabuliwala By Rabindranath Tagore)

मेरी पाँच बरस की लड़की मिनी से घड़ीभर भी बोले बिना नहीं रहा जाता। एक दिन वह सवेरे-सवेरे ही बोली, “बाबूजी, रामदयाल दरबान है न, वह ‘काक’ को ‘कौआ’ कहता है। वह कुछ जानता नहीं न, बाबूजी।” मेरे कुछ कहने से पहले ही उसने दूसरी बात छेड़ दी। “देखो, बाबूजी, भोला कहता है – आकाश […]

Creative Commons Licence के फोटोग्राफ्स को सही प्रकार से कैसे Attribute करेंगे…

अच्छी Quality के फोटोग्राफ्स किसी भी Blog अथवा Website के लिए प्रथिमिक आवश्यकता होती है इसके बिना कोई भी Blog या Website सफल नहीं हो सकता। इसके लिए ब्लॉगर एवं Webmaster पब्लिक डोमैन अथवा Creative Commons Licence के  फोटोग्राफ्स का प्रयोग करते है। Public Domain के फोटोग्राफ्स का प्रयोग कोई भी बिना किसी शर्त के […]

धूर्त भेड़िया (Dhurta Bhediya From Panchtantra)

ब्रह्मारण्य नामक एक बन था। उसमें कर्पूरतिलक नाम का एक बलशाली हाथी रहता था। देह में और शक्ति में सबसे बड़ा होने से बन में उसका बहुत रौब था। उसे देख सारे बाकी पशु प्राणी उससे दूर ही रहते थे। जब भी कर्पूरतिलक भूखा होता तो अपनी सूँड़ से पेड़ की टहनी आराम से तोड़ता […]

मुफ्तखोर मेहमान (Muftkhor Mehman)

एक राजा के शयनकक्ष में मंदरीसर्पिणी नाम की जूं ने डेरा डाल रखा था। रोज रात को जब राजा जाता तो वह चुपके से बाहर निकलती और राजा का खून चूसकर फिर अपने स्थान पर जा छिपती। संयोग से एक दिन अग्निमुख नाम का एक खटमल भी राजा के शयनकक्ष में आ पहुंचा। जूं ने […]

Smartphone के कैमरे का विभिन्न प्रकार से प्रयोग करे

समान्यत: हम लोग अपने Smartphone के कैमरे का प्रयोग फोटो खिचने के लिए करते है। पर क्या अपने ये सोचा है की हम इसका इस्तेमाल Image लेने के साथ-साथ और भी प्रकार से कर सकते है? Smartphone के कैमरे का प्रयोग नीचे दिये गए विभिन्न प्रकारो से भी किया जा सकता है। जिससे आप अपने […]

दो भाई…प्रेमचंद (Do Bhai by Premchand)

प्रातःकाल सूर्य की सुहावनी सुनहरी धूप-में कलावती दोनों बेटों को जाँघों पर बैठा दूध और रोटी खिलाती थी। केदार बड़ा था, माधव छोटा। दोनों मुँह में कौर लिये, कई पग उछल-कूदकर फिर जाँघों पर आ बैठते और अपनी तोतली बोली में उस प्रार्थना की रट लगाते थे, जिसमें एक पुराने सुहृदय कवि ने किसी जाड़े […]

आखिरी मंजिल….प्रेमचंद (Akhari Manzil by Premchand)

आह ? आज तीन साल गुजर गए, यही मकान है, यही बाग है, यही गंगा का किनारा, यही संगमरमर का हौज। यही मैं हूँ और यही दरोदीवार। मगर इन चीजों से दिल पर कोई असर नहीं होता। वह नशा जो गंगा की सुहानी और हवा के दिलकश झौंकों से दिल पर छा जाता था। उस […]

कप्तान साहब….प्रेमचंद

जगत सिंह को स्कूल जान कुनैन खाने या मछली का तेल पीने से कम अप्रिय न था। वह सैलानी, आवारा, घुमक्कड़ युवक थां कभी अमरूद के बागों की ओर निकल जाता और अमरूदों के साथ माली की गालियॉँ बड़े शौक से खाता। कभी दरिया की सैर करता और मल्लाहों को डोंगियों में बैठकर उस पार […]

प्रेमचंद, एक जीवन परिचय(biography of premchand in hindi)

प्रेमचंद महानतम भारतीय लेखकों में से एक हैं। इन्हे हिन्दी साहित्य का कथानायक और उपन्यास सम्राट भी कहा जाता है। प्रेमचंद का जन्म ३१ जुलाई १८८० को  वाराणसी  केनिकट लमही गाँव में हुआ था। उनकी माता का नाम आनन्दी देवी था तथा पिता का नाम मुंशी अजायबराय था। उनके पिता  लमही में डाकमुंशी थे। प्रेमचंद  का मूल नाम धनपत राय श्रीवास्तव […]

PDF फाइल को कैसे एडिट करे ?….

PDFफाइलक्याहै? PDF फाइल का निर्माण Adove कंपनी ने किया है। इसका निर्माण 1993 ई. में किया गया था। PDF, Portable Document Format  का संछिप्त रूप है। अपने आकारमेंछोटाहोने एवं Read Only फाइल  (जिससे यह आसानी से Edit नहीं होता है।)  होने के कारण यह फाइल Format बहुत ही लोकप्रिय है । PDFफाइलकैसेएडिटकरे? पीडीऍफ़ फाइल को निम्न कई […]