आहिस्ता  चल  जिंदगी,अभी
कई  कर्ज  चुकाना  बाकी  है
कुछ  दर्द  मिटाना   बाकी  है
कुछ   फर्ज निभाना  बाकी है
                   रफ़्तार  में तेरे  चलने से
                   कुछ रूठ गए कुछ छूट गए
                   रूठों को मनाना बाकी है
                   रोतों को हँसाना बाकी है
कुछ रिश्ते बनकर ,टूट गए
कुछ जुड़ते -जुड़ते छूट गए
उन टूटे -छूटे रिश्तों के
जख्मों को मिटाना बाकी है
                    कुछ हसरतें अभी  अधूरी हैं
                    कुछ काम भी और जरूरी हैं
                    जीवन की उलझ  पहेली को
                    पूरा  सुलझाना  बाकी     है
ख्वाहिशे जो घुट गई इस दिल में
उनको दफ़नाना बाकी है
आहिस्ता चल जिंदगी ,अभी
कई कर्ज चुकाना बाकी    है
                    जब साँसों को थम जाना है
                    फिर क्या खोना ,क्या पाना है
                    पर मन के जिद्दी बच्चे को
                    यह   बात   बताना  बाकी  है
तू आगे चल मैं आता हूँ
क्या छोड़ तुझे जी पाउँगा।
इन साँसों पर हक़ है जिनका
उनको समझाना बाकी है।                  
                   आहिस्ता चल जिंदगी ,अभी
                   कई कर्ज चुकाना बाकी    है
                   कुछ दर्द मिटाना   बाकी   है   
                   कुछ  फर्ज निभाना बाकी है ।
स्पस्टीकरण- प्रस्तुत कविता Social Media से लिया गया है और इसके लेखक का नाम ज्ञात नहीं है इस कारण यह रचना  इसके मूल अज्ञात रचनाकार को समर्पित है। UtsavMantra इसपर किसी प्रकार का Copyright का दावा नहीं करता है।
Aahista chal zindagi

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *